Home Power Links Contact Us Hindi Site

टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड टिहरी में कवि सम्मेलन का आयोजन

टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड टिहरी इकाई में दिनांक 21.04.2016 को एक हास्य   कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया. इस कवि सम्मेलन में अंतर्राष्ट्रीय स्तर के कवि श्री अरुण जैमिनी, सुनहरी लाल (तुरंत), श्री रमेश मुस्कान, श्री चिराग जैन एवं कवियित्री मुमताज नसीम को आमंत्रित किया गया था. कवि सम्मेलन में सर्वप्रथम कवियों का भारतीय परंपरा के अनुसार पुष्प गुच्छ भेंट कर स्वागत किया गया.तत्पश्चात कार्यक्रम का शुभारंभ महाप्रबंधक (टीसी) श्री ओ.एस. मौर्य, सपत्नीक, अपर महाप्रबंधक का.एवं प्र. श्री सी.मिंज, सपत्नीक, अपर महाप्रबंधक (नियोजन,यांत्रिक) श्री यू.के. ठाकुर, सपत्नीक अपर महाप्रबंधक ओ.एंड एम. श्री एल.पी. जोशी, अपर महाप्रबंधक बांध श्री अतुल कपूर एवं कवियों द्वारा संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर किया गया.

कार्यक्रम के दौरान टिहरी यूनिट में राजभाषा हिंदी के प्रचार-प्रसार एवं दिसंबर 2015 के तिमाही के दौरान हिंदी में उत्कृष्ट कार्य करने के लिए टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड के चिकित्सालय विभाग को पुरस्कृत किया गया. साथ ही सार्वजनिक उपक्रम सप्ताह मनाने के दौरान अधिकारियों एवं कर्मचारियों के मध्य वाद-विवाद एवं निबन्ध प्रतियोगिता के विजेता प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया गया. साथ ही वार्षिक कलेंडर के अनुसार फुटबाल एवं महिला खो-खो प्रतियोगिता के विजेता एवं उप-विजेता टीम को भी महाप्रबंधक (टीसी) श्री ओ.एस. मौर्य द्वारा पुरस्कृत किया गया. महाप्रबंधक (टीसी) श्री ओ.एस. मौर्य ने कवि सम्मेलन के आयोजन पर अपने संबोधन में सभी कवियों का हार्दिक स्वागत एवं अभिनंदन किया. साथ ही उन्होंने कहा कि राजभाषा हिंदी को बढ़ावा देने के लिए राजभाषा के नियमों के अनुसार प्रत्येक वर्ष टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड कवि सम्मेलन एवं संगोष्ठियों का आयोजन किया जाता है. उन्होंने उपस्थित सभी कार्मिकों एवं उनके परिवार के सदस्यों को हिंदी में कार्य करने पर जोर दिया.एवं प्रत्येक वर्ष कवि सम्मेलन के सफल आयोजन हेतु सराहना की. साथ ही उन्होंने टिहरी के गणेशप्रयाग को याद करते हुए टिहरी बांध पर बनाई गई कविता को भी उपस्थित सभी श्रोताओं के सम्मुख रखा.

 

कवि श्री चिराग जैन द्वारा मंच संचालन करके श्रृंगार रस की कवियित्री मुमताज नसीम को सरस्वती वन्दना के लिए आमंत्रित किया गया. मुमताज नसीम ने अपनी मधुर सुरीली आवाज में माँ सरस्वती वंदना गाकर सभी दर्शकों को झकझोर दिया. साथ मुमताज नसीम ने कश्मीर समस्या पर पाकिस्तान को इस कविता के माध्यम से आगाह किया.

 

 

जन्नतें वादियें कश्मीर पर झगड़ा क्यूँ है, ये इलाका तो हमारा है तुम्हारा क्यूँ है,

तुमने तो अपनी ही मर्जी से ही वतन छोड़ा है, अपनी ख्वाहिश से सहले चमन छोड़ा था, भला हिन्द में अपने हक जताते क्यूँ हो, भाई से भाई को लड़ाते क्यूँ हो.”

इस कविता की प्रस्तुति पर उपस्थित श्रोतागण भावविभोर हो गए.

तत्पश्चात श्री सुनहरी लाल (तुरंत) ने वर्तमान में मानव जीवन के जीने की शैली व भाग दौड़ की जिंदगी को अपनी कविताओं के माध्यम से प्रस्तुत किया. जिसको दर्शकों ने खूब सराहा. श्री सुनहरी लाल तुरंत ने टिहरी बांध को सागर की संज्ञा देते हुए कहा कि टिहरी वालों को सागर की ढूंड में क्या जाना वह तो सागर का मजा टिहरी जलाशय में ले रहे हैं. तत्पश्चात उन्होंने बिजली पर काव्य पाठ किया.

बिजली बनाने वाले क्या तेरे मन में समाई, तूने काहे को बिजली बनाई.

काहे बनाये तूने फ्रिज और कूलर, बिजली का ए सी पंखा और बिजली का गीजर,

काहे बनाया तूने बिजली का हीटर, उस पर लगाया बिजली वालों ने मीटर.”

कार्यक्रम को आगे बढ़ाते हुए श्री रमेश मुस्कान द्वारा देश के वर्तमान राजनैतिक परिदृश्य पर अपनी कविताओं के माध्यम  से प्रकाश डाला गया.

हरियाणा से आये मशहूर अंतर्राष्ट्रीय कवि श्री अरुण जैमिनी ने अपनी हरियाणवी बोली में कविताएँ और चुटकुले प्रस्तुत करते हुए सभी दर्शकों को खूब गुदगुदाया, जिसका कि दर्शकों ने तालियों की गड़गड़ाहट से जैमिनी साहब के मनोबल को बढ़ाते हुए भरपूर आनंद लिया, एवं हंसते-हसंते दर्शकों के आंसू आ गए.

कवि सम्मेलन का संचालन करते हुए श्री चिराग जैन ने अपनी हास्य व्यंग्य की कविताओं के माध्यम से दर्शकों द्वारा ताली न बजाने पर भी तंज कसे, एवं अपनी कविताओं के माध्यम से घरेलू हिंसा एवं महिलाओं कि असन्तुष्टता पर व्यंग्य कसे. जिसका कि उपस्थित जनसमुदाय द्वारा भरपूर आनंद उठाया गया. श्री चिराग जैन ने कवि सम्मेलन के समापन के अवसर पर अंत में इस गीत के माध्यम से दुबारा मिलने हेतु इच्छा जाहिर की.

 

आज से अपना वादा रहा, हम मिलेंगें हर एक मोड़ पर ,

दिल कि दुनिया बसायेंगे हम, गम की दुनिया का साथ छोड़ कर.

जीने मरने की किसको पड़ी, जिंदगी कि न टूटे लड़ी.

प्यार कर ले घड़ी दो घड़ी.”

 

कवि सम्मेलन के अवसर पर टीएचडीसी के अधिकारी एवं कर्मचारी बड़ी संख्या में उपस्थित थे. कार्यक्रम का संचालन श्री मनबीर सिंह नेगी वरिष्ठ जन संपर्क अधिकारी द्वारा किया गया. अंत में उन्होंने विशिष्ट अतिथियों कवि-गणो एवं श्रोताओं का उनकी उपस्थिति के लिए धन्यवाद एवं आभार व्यक्त किया. एवं उप-प्रबंधक (हिंदी) श्री इन्द्र राम नेगी, वरिष्ठ विधि अधिकारी श्री मनोज राय, वरिष्ठ सहायक श्रीमती नीरज सिंह द्वारा कार्यक्रम को सफल बनाने में सहयोग प्रदान किया गया.

 
             
Site Designed & Developed by IT Department, THDC India Limited