Home Power Links Contact Us Hindi Site

प्रतापनगर ब्लाक के सुदर क्षेत्र मिस्श्रवाण गांव में चिकित्सा शिविर का आयोजन।
प्रतापनगर ब्लाक में आयोजित केम्प कि झलकिया

       ऊर्जा मंत्रालय भारत सरकार के साथ हुऐ एमओयू के परिपालन में सेवा-टीएचडीसी ने रिम क्षेत्र में चिकित्सा सुविधाओं के आभव को देखते हुऐ प्रताप नगर ब्लाक के सुदुरवर्ती क्षेत्र मिस्श्रवाण गांव में अपने चौथे चिकित्सा जांच शिविर का आयोजन श्री कृष्ण सेवा आश्रम, ऋषिकेश के सहयोग से 24 अक्टूबर 2013 को समपन्न किया। कार्यक्रम का शुभारम्भ उप-प्रबन्धक सामाजिक श्री एस.डी. उनियाल और डा. सी.एल.कोहली ने संयुक्त रूप से रिब्बन काट कर किया।

 

      शिविर में आये ग्रामीणों से बातचीत करते हुऐ श्री उनियाल ने कहा कि सेवा-टीएचडीसी का यह प्रयास है कि उसके द्वारा जो कार्य किया जा रहा है उसका लाभ गांव के सबसे सबसे कमजोर वर्ग के व्यक्ति को सीधा मिले, ताकि वह समाज की मुख्य धारा में शमिल हो सके। क्योंकि यदि विकास के दौर में समाज में कमजोर व्यक्ति छूट जायेगा, तो उस समाज की सही तसबीर नही बन सकती है। हमारा निरन्तर प्रयास है कि विकास की धारा जो सेवा-टीएचडीसी ने शुरू की है उससे गांव का प्रत्येक व्यक्ति लाभ उठाये।

 

        स.जन सम्पर्क अधिकारी श्री यतबीर सिंह चौहान ग्रामीणों के मध्य सेवा-टीएचडीसी के माध्यम से चलाये जा रहे विभिन्न कार्यक्रमों की जानकारी रखी और ग्रामीणों से उससे लाभ उठाने के लिए आग्रह किया। उन्होनें बताया कि टीएचडीसी प्रबन्धन वर्ग सेवा के कार्यो पर लगातार नजर रखे हुऐं है तथा कार्यो को मानक के अनुरूप क्रियान्वयन पर जोर दिया जा रहा है। जिससे उसका समूचित लाभ ग्रामीणों को मिल सके।

 

         डा. कोहली ने शिविर में आये ग्रामीणों से कहा कि आप लोग बहुत भाग्यशाली है कि आपके क्षेत्र में टीएचडीसी जैसी बड़ी संस्थायें विकास के कार्यो को बढ़वा दे रही है और मेरे को इस दूर दराज क्षेत्र में आप लोगो को चिकित्सा सहायता प्रदान करने के लिए बुलाया। मेरी टीम की पूरी कोशिश रहेगी कि आपकी सेवा में कोई कमी रहे। डा. कोहली स्वंय बहुत ही प्रसिद्व फिजिशियन है और उनके साथ स्त्री रोग विशेषज्ञ सहित पूरी चिकित्सा टीम इस शिविर में कार्यरत थी।   

     शिविर में मिस्श्रावाण गांव के आस-पास जिन गांव के लोगों ने आकर लाभ उठाया, उनमें खोल गढ़ वल्ला, खोल गढ़ पल्ला, हलेथ, थाला, मोल्का, खेत गांव के निवासियों ने लाभ उठाया। कार्यक्रम में गांव के सामाजिक कार्यकर्ता श्री सुन्दर सिंह मिस्श्रावाण, श्री भाग सिंह मिस्श्रवाण, श्री पृथ्बीपाल सिंह, कैलाश चन्द्र उप्रेती, श्री के.एन. डंगवाल, रा.इ.कालेज प्रधाना चार्य श्री अमित अरोड़ा सहित कई ग्रामीण महिलाएं एवं पुरूष उपस्थित थे।

 

     शिविर में 163 मरीजों का रजिस्ट्रेशन हुआ, जिनमें 89 महिलाएं एवं 74 पुरूष थी जिनको चिकित्सा जांच के उपरान्त निशुल्क दवा वितरित की गयी। शिविर स्थल मुख्य सड़क मार्ग से लगभग 06 किलो मीटर कच्ची और उवड़-खबड़ ब्रान्च सड़क मार्ग के बाद 1.5 किलोमीटर पैदल खड़ी चढ़ाई की दूरी पर स्थित है, जो कि नई टिहरी मुख्यलय से लगभग 85 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है विषम परिस्थितियों के बावजूद सीएसआर टिहरी की टीम कारपोरेशन के मिशन को जन-जन तक पंहुचाने के लिए कृत संकल्प है।

 

     शिविर के दौरान ग्रामीणों के साथ चर्चा में जो विन्दु आये निम्नवत् है-

 

1- गांव में चिकित्सा सुविधा नगण्य है यहा पर लोग प्राथमिक उपचार के लिए लम्बगांव, माजफ और प्रतापनगर जाते है। ग्रामीणों ने इस क्षेत्र में स्थाई चिकित्सा व्यवस्था के लिए मांग की।

2- गांव के बच्चे तकनीकी शिक्षा (कम्प्यूटर शिक्षा) से बंचित है, यह से छोटे से छोटे जरूरतो को पूरा करने के लिए माजफ और लम्बगांव जाना पड़ता है सड़क मार्ग पर पर्याप्त यातायत की सुविधा नहीं है अधिक तर आवागमन पैदल और सामग्री का ढुलान खच्चरों के माध्यम से होता है।

3- महिलाओं और युवतियों को स्वाभलम्बी बनाने के लिए जगरूकता कार्यक्रम की आवश्यकता है।

4- महिलाओं शसक्तिकरण के लिए सिलाई सेन्टर स्थापित करने लिए मांग की।

5- इस ग्राम सभा की एक बालिका दय एवं एक वालिका टीबी रोग से बहुत ही गम्भीर बीमार है दोनो की उम्र लगभग 12 से 15 के बीच है, उनके परिवार की आर्थिक स्थित बहुत ही दायनीय है। डा. कोहली ने बताया कि दोनो मरीजो को चिकित्सीय मद्द शीध्र आवश्यकता है।

6- गामीण लोग अधिकतर खेती पर निर्भर है, तथा यह पर पानी और कम पानी वाली दोनो फसलों को उगाया जाता है।  

 
             
Site Designed & Developed by IT Department, THDC India Limited