Home Power Links Contact Us Hindi Site

अंतर विद्यालयी अन्त्याक्षरी प्रतियोगिता का आयोजन

 

टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड के कारपोरेट कार्यालय,ऋषिकेश में हिंदी अनुभाग (का.एवं प्रशा.)के सौजन्य से दिनांक 07.02.2014 को अंतर विद्यालयी अन्‍त्‍याक्षरी प्रतियोगिता का आयोजन किया गया ।  इस प्रतियोगिता में ऋषिकेश के गंगोत्री विद्या निकेतन,भरत मंदिर इंटर कॉलेज,भरत मंदिर पब्‍लिक स्‍कूल,हरिश्‍चन्‍द्र गुप्‍ता आदर्श कन्‍या इंटर कालेज एवं टीएचडीसी हाईस्‍कूल की जूनियर वर्ग (कक्षा 6-8) की टीमों ने प्रतिभागिता की। जिनमें गंगोत्री विद्या निकेतन की टीम प्रथम, भरत मंदिर पब्‍लिक स्‍कूल की टीम, द्वितीय एवं टीएचडीसी हाईस्‍कूल की टीम तृतीय रही। इनके अतिरिक्‍त हरिश्‍चन्‍द्र गुप्‍ता आदर्श कन्‍या इंटर कालेज एवं भरत मंदिर इंटर कॉलेज के विद्यार्थियों को सांत्‍वना पुरस्‍कार प्रदान किए गए। कार्यक्रम की अध्‍यक्षता कर रहे टीएचडीसी इंडिया लि. के महाप्रबंधक (का.एवं प्रशा.),श्री एस.के.अग्रवाल ने सभी विजेता टीमों के विद्यार्थियों को अपने कर-कमलों द्वारा पुरस्‍कृत किया । 

कार्यक्रम का संचालन कर रहे वरि.प्रबंधक (हिंदी),श्री अशोक कुमार श्रीवास्‍तव ने कार्यक्रम की अध्‍यक्षता कर रहे महाप्रबंधक (का.एवं प्रशा.),श्री एस.के.अग्रवाल,निर्णायक मंडल के सदस्‍य/सदस्‍या के रूप में उपस्‍थित गंगोत्री विद्या निकेतन की श्रीमती नीलम पाल, ऋषिकेश पब्‍लिक स्‍कूल की श्रीमती अर्चना थपलियाल एवं भरत मंदिर इंटर कालेज के डॉ. सुनील थपलियाल एवं अन्‍त्‍याक्षरी प्रतियोगिता का संचालन करने वाले टीएचडीसी हाईस्‍कूल के परामर्शदाता, श्री डी.एन.सक्‍सेना तथा उपस्‍थित प्रतिभागी विद्यार्थियों का स्‍वागत करते हुए कार्यक्रम की रूप रेखा पर प्रकाश डालते हुए बताया कि इस प्रकार की प्रतियोगिता का उद्देश्‍य विद्यार्थियों के माध्‍यम से हिंदी का प्रचार एवं प्रसार करना है।         

इस प्रतियोगिता में विद्याथियों को अपने प्रस्‍तुतीकरण में हिंदी कविता, दोहे, चौपाई, संस्‍कृत श्‍लोक आदि साहित्यिक रचनाओं का प्रयोग करने की इजाजत दी गई थी, जिसका निर्वाह करते हुए विद्यार्थियों ने अपनी प्रस्‍तुतियों से सबको मंत्रमुग्‍ध कर दिया। सभी प्रतिभागियों एवं उपस्‍थित दर्शकों ने करतल ध्‍वनि से विद्यार्थियों का मनोबल बढ़ाया। महाप्रबंधक (का.एवं प्रशा.) ने अपने संबोधन में हिंदी अनुभाग के इस अभिनव प्रयास की सराहना करते हुए कहा कि हिंदी का विकास तभी संभव है जब इसके प्रति देश के बच्‍चों में रूचि एवं जागरूकता होगी। उन्‍होंने सभी विजेता विद्यार्थियों को बधाई देते हुए उनसे लगातार इस प्रयास को बनाए रखने का आहवान किया।

 

 

 
             
Site Designed & Developed by IT Department, THDC India Limited