Home Power Links Contact Us Hindi Site

प्रतानगर ब्लाक के कोरदी गांव में सेवा-टीएचडीसी द्वारा चिकित्सा जांच शिविर का अयोजन

     कारपोरेट सामाजिक दायित्व निर्वाहन के अन्तगर्त सेवा-टीएचडीसी द्वारा प्रतानगर ब्लाक के कोरदी क्षेत्र में एक दिवसिय चिकित्सा जांच शिविर दिनांक 20.02.14 को आयोजित किया गया। कार्यक्रम का शुभ्भारम्म श्री कृष्ण सेवा आश्रम, ऋषिकेश के डा. सी एल कोहली और निवर्तमान जिला पंचायत संदस्य पनियाला क्षेत्र की श्रीमति पूर्णा देबी ने सयुंत रूप से किया। कोरदी ब्लाक प्रतापनगर का बहुत ही दूरस्थ स्थित आखरी गांव है जो कि नई टिहरी मुख्यलय से लगभग 100 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

      श्री कृष्ण सेवा आश्रम, ऋषिकेश के सहयोग से परियोजना प्रभावित क्षेत्र में अर्न्तगत आने वाले गांव जहां पर कि चिकित्सा सेवाओं का अभाव है ग्रामीणों को स्वस्थ्य सेवायें इस तरह से शिविर आयोजित कर उपलब्घ करवायी जा रही है। शिविर में फिजिशियन, स्त्री रोग विशेषज्ञ, चिकित्सक प्रमुख रूप से थे, इसके अतिरिक्त लैब की सेवायें भी उपलब्ध थी, शिविर में 48 पुरूष और 136 महिला और बच्चें मरीजों की जांच के उपरान्त उन्हें निशुल्क दवाईयां भी वितरित की गयी।

     कार्यक्रम में जन सम्पर्क अधिकारी (सामाजिक) श्री यतबीर सिंह चौहान और कोरदी ग्राम के प्रमुख व्यक्तियों में श्री छप्पन सिंह डंगवाल, नारायण सिंह राणा, शीशपाल सिंह डंगवाल, भाग सिंह, श्रीमति हेमा देवी, नक्शा सिंह राणा सहित ग्रामीण जनता उपस्थित थी। सेवा-टीएचडीसी द्वारा कार्यक्रम के लिए की गयी व्यवस्था पर ग्रामीणों ने आभार जताया। और भविष्य में इस तरह की सेवाओं को इस क्षेत्र के लोगो को निरन्तर देने का भी आग्रह किया।

     चिकित्सा शिविर के दौरान ग्रामीणों को विभिन्न बीमारियो ंजैसे एड्स और सक्रमंण बीमारियों से बचाव के बारे में ग्रामीणों को संन्देश दिया गया। ग्रामीणों ने बताया कि इस सुदूर क्षेत्र में हमें मुसीबतों के साथ जीवन यापन करने के लिए मजबूर है, सेवा-टीएचडीसी से हम सभी ग्रामीण अनुरोध करतें है हमें उचित सहयोग प्रदान करे, ग्रामीणों द्वारा व्यक्त की समस्याओं को विन्दुवार दिया गया है-

·        ग्रामीणों ने बताया कि इस क्षेत्र की सबसे बड़ी समस्या स्वास्थ्य सेवाओं की है, यहां से ग्रामीणों को चिन्याली सौड़/ लम्बगांव/नई टिहरी इलाज हेतू लगभग 60 से 100 किलोमीटर की यात्रा तय कर जाते है, विगत छः माह से यहां पर बच्चों के टीकाकरण की कोई व्यवस्था नही है, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र का निर्माण भी ग्रामीणों के अनुसार धनाअभाव के कारण अधर में लटका है। एक चिकित्सक नियुक्त करने की मांग की है। जब तक चिकित्सक की व्यवस्था नहीं होती, प्रत्येक महिने एक चिकित्सा कैम्प आयोजित किये जाने की मांग की।

·        यह पर एक हाईस्कूल स्थापित है लेकिन अध्यापको के अभाव के कारण बच्चों का शिक्षण कार्य प्रभावित हो रहा है, जिसका सीधा असर बच्चों के गुणात्मक विकास पर पड़ रहा है। स्कूल का उच्चीकरण अभी हुआ है ग्रामीणों ने दो अतिरक्ति कक्ष निर्माण की मांग है।

·        ग्रामीणों ने क्`र्षि कार्यो में सहयोग, जिसमें खाद, बीज, उन्नत कृर्षि यन्त्र की मांग की है। यहां पर आलू, अदरक, मिर्च, मटर की फसल एंव फलदार खेती में सेव पुलम, अखरोट फल उत्पन होते है, इस ओर ग्रामीणों को व्यवसायिक स्तर करने के लिए बढ़ावा दिया जा सकता है।

·        ग्राम पंचायत कोरदी, सिलारी के निवर्तमान प्रधानों ने सेवा-टीएचडीसी से टैन्ट सामग्री दिये जाने की मांग की।

·        बैठक के दौरान ग्रामीणों ने बताया कि इस ग्राम पंचायत में 300 परिवार निवास करते है जिसकी आवादी लगभग 2000 से अधिक है।

·        इस सदूर क्षेत्र में युवाओं और महिलाओं के उत्थान के लिए ग्रामीणों ने कम्प्यूटर प्रशिक्षण, सिलाई और स्वेटर बुनाई प्रशिक्षण, और कच्चे माल से अचार एवं अन्य सामग्री निर्माण हेतु प्रशिक्षण दिये जाने का अनुरोध किया।

 
             
Site Designed & Developed by IT Department, THDC India Limited