Home Power Links Contact Us Hindi Site

सेवा-टीएचडीसी द्वारा रिम एरिया के सभी विकास खण्डों में कम्प्यूटर प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू

सेवा-टीएचडीसी के सौजन्य से रिम एरिया के अन्तर्गत आने वाले विकास खण्ड प्रतापनगर, भिंलगना, थौलधार, जाखणीधार, चम्बा, चिन्यालीसौड़, डुन्डा (घौतरी), नरेन्द्र नगर (कोटेश्वर घाटी) में कारपोरेट समाजिक दायित्व निर्वाहान के तहत 6 माह अवधि के 14 कम्प्यूटर प्रशिक्षण केन्द्र विधिवत स्थापित कर दिये गये है, प्रत्येक विकास खण्ड में 2-2 कम्प्यूटर प्रशिक्षण केन्द्र खोले गये है, दो विकास खण्डों में एक-एक केन्द्र और स्थापित किये जाने प्रस्तावित है, इन केन्द्रो में 40 युवक एवं युवतियों को सयुंक्त रूप् से प्रशिक्षण दिया जा रहा है। कई केन्द्रों में निर्धारित संख्या से अधिक प्रशिक्षार्थी प्रशिक्षण हेतु उपस्थित हो रहे है, यह कार्यक्रम स्थानीय संस्थाओं के सहयोग से किया जा रहा है, जिसमें प्रशिक्षण का सारा व्यय सेवा के माध्यम से दिया जा रहा है। सेवा द्वारा प्रशिक्षण का कार्य सघन आवादी वाले दूरस्त ग्रामीण क्षेत्रों में संचालित किया जा रहा है।

प्रशिक्षण केन्दों का विकास खण्डों सहित विवरण

क्.्रस.

विकास खण्ड का नाम

स्थान का नाम

कार्यदायी संस्था का नाम

अन्य विवरण

   1.

प्रतापनगर

1- लम्वगांव

हयूमन सर्विस डेवलपमेंट एसोसियेशन

 

2- माजफ

टिहरी बांध प्रभावित विकास समिति

2.

भिंलगना

3- रगड़ी

सम्पूर्ण महिला विकास समिति

 

4- असेना

पर्यावरण एवं जनकल्याण समिति

5- डांगी

आंचल पर्वतीय विकास चेतना केन्द्र

3.

जाखणीधार

6- घारकोट

महिला सेवा समिति, धनसाली

 

7- भटवाड़ा

युनिक तकनीकी प्रशिक्षण एवं शिक्षण संस्थान

4.

थौलधार

8- कमाद

नव ज्योति जन कल्याण समिति

 

9- पाली

द्रोण शिक्षण संस्थान

5.

चिन्याली सौड़

10- चिन्याली सौड़

मां भगवती श्रमिक जन कल्याण सेवा संस्थान

 

6.

डुन्डा

11- धौतरी

मां भगवती श्रमिक जन कल्याण सेवा संस्थान

7.

चम्बा

12- नागदेव पथिल्डा

हितायु लोक जन कल्याण समिति

 

13- ज्ञानसू

आंचल पर्वतीय विकास चेतना केन्द्र

8.

कोटेश्वर धाटी

14-क्यारी

समृद्व भारत मिशन सोसाईटी

 

 

     कार्यक्रम मुख्य उद्देश्य यही है कि-

·         युवा शक्ति को जागरूक कर उन्हें सामाजिक, आर्थिक सशक्तिकरण की ओर प्रेरित करना।

  • दैनिक क्रियाकलापों के साथ प्रशिक्षण के माध्यम से उनकी कार्य कौशलता बढ़ाना।
  • परिवार की आय बढ़ाने के लिए उन्हें वैज्ञानिक तरीके से सहयोग प्रदान करना।
  • कौशल प्रशिक्षण के साथ उन्हें अन्य सामाजिक गतिविधियों से जोड़ना, जिससे वे स्वंय अपने पैरो पर खड़े हो सके।
  • जो युवा अपने परिवार की सामाजिक, आर्थिक परिस्थितियों के कारण गांव से बाहर नही जा सकते है, उन्हें अवसर प्रदान करना है। इससे ग्रामीण क्षेत्र के अधिक से अधिक युवाओं को कार्यक्रम से सीधा लाभ ले सके।
  • युवाओं को तकनीकी ज्ञान देकर उन्हें आधुनिक कार्यशैली के लिए तैयार करना।

     इस निशुःल्क प्रशिक्षण कार्यक्रम में बहुत दूर-दूर से युवक एंव युवतियां बहुत ही उत्सुकता से प्रशिक्षण में भाग ले रही है, प्रशिणार्थियों के बैच बनाकर प्रशिक्षण दिया जा रहा है। स्थानीय ग्रामीणों ने युवाओं को प्रोत्साहन के लिए टीएचडीसीआईएल प्रबन्धन का हार्दिक धन्यवाद किया। यह कार्यक्रम एक स्थान पर 40 युवाओं को 6 माह का प्रशिक्षण देने के उपरान्त दूसरे ग्रामीण क्षेत्रों में स्थानान्तरित कर चलता रहता है। जिसे सीएसआर युनिट टिहरी के माध्यम से निगरानी की जाती रहती है, समय-समय पर केन्द्रो का सेवा के पदाघिकारियों द्वारा औचक निरीक्षण भी किया जा रहा है।

     प्रशिक्षण केन्द्रों की स्थापना के समय उप महाप्रबन्धक (सामाजिक) श्री अमरदीप एवं वरि.ज.स. अधिकारी श्री यतबीर सिंह चौहान ने दौरा किया तथा स्थानीय जनप्रतिनियों से सीएसआर के विभिन्न कार्यो की चर्चा की, इस दौरान प्रशिक्षार्थियों से भी कार्यक्रम के बारे में जानकारी दी।

 
             
Site Designed & Developed by IT Department, THDC India Limited