टीएचडीसी ने 63 मेगावाट क्षमता के विंड पावर प्रोजेक्ट को अवार्ड किया

टीएचडीसी इंडिया लिमिटड (टीएचडीसीआईएल) ने अपनी उपलब्‍धियों में एक और कड़ी जोड़ते हुए 28 नवम्‍बर, 2016 को 63 मेगावाट (30X2.1 मेगावाट) क्षमता के विंड पावर प्रोजेक्‍ट का अवार्ड मैसर्स सुजलॉन इनर्जी लिमिटड को किया है। यह विंड पावर प्रोजेक्‍ट गुजरात के  द्वारिका जिले में कंडोर्ना एंड भनवाड विड पावर साईट में किया है। प्रारम्‍भ के 10 वर्षों में  इस परियोजना के प्रचालन व अनुरक्षण पर कुल लागत 491.7 करोड़ आयेगी। इस प्रोजेक्‍ट को मार्च, 2017 के अंत तक कमीशन करने का लक्ष्‍य रखा गया है।

 

टीएचडीसी के द्वारा विंड पावर के क्षेत्र में यह दूसरी बड़ी उपलब्‍धि है। जैसा कि, गुजरात के पाटन जिले में पहले ही 50 मेगावाट (25X2 मेगावाट) क्षमता के विंड पावर प्रोजेक्‍ट को कमीशन करके टीएचडीसी द्वारा विद्युत उत्‍पादन शुरू किया जा चुका है। इस विंड पावर प्रोजेक्‍ट की कमीशनिंग होने  के उपरांत टीएचडीसी द्वारा विद्युत उत्‍पादन की संस्‍थापित क्षमता 1513 मेगावाट हो जायेगी। इसमें मार्च, 2017 तक कुल 113 मेगावाट विंड पावर का योगदान होगा।

 

टिहरी व कोटेश्‍वर जल विद्युत परियोजनाओं तथा गुजरात के पाटन में पवन ऊर्जा की कमीशनिंग के उपरांत टीएचडीसी द्वारा 1450 मेगावाट संस्‍थापित क्षमता के विद्युत का उत्‍पादन किया जा रहा है। टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड देश का प्रमुख विद्युत उत्‍पादक संस्‍थान होने के साथ ही एक मिनी-रत्‍न (कटेग्री-प्रथम) व शेड्यूल ए दर्जा प्राप्‍त संस्‍थान है।

 
             
Site Designed & Developed by IT Department, THDC, Rishikesh.