टीएचडीसी व कोयला मंत्रालय, भारत सरकार के मध्य अमिलिया कोल माइन के लिए हुआ आंवटन समझौता

श्री डी.वी. सिंह, अध्‍यक्ष एवं प्रबन्‍ध निदेशक टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड (टीएचडीसीआईएल) व     श्री विवेक भारद्वाज, संयुक्‍त सचिव, कोयला मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा अमिलिया कोल माइन के लिए आवंटन समझौते पर 15 दिसम्‍बर, 2016 को नई दिल्‍ली में हस्‍ताक्षर किये गये। इस अवसर पर श्री यू.सी. कन्‍नौजिया, महाप्रबन्‍धक (एस.पी.) एवं श्री मुकुल शर्मा, वरिष्‍ठ प्रबन्‍धक उपस्‍थित रहे।

 

उल्‍लेखनीय है कि टीएचडीसीआईएल को खुर्जा सुपर थर्मल पावर प्रोजेक्‍ट के संचालन हेतु अमिलिया कोल माइन का आंवटन 29 अगस्‍त, 2016 को किया जा चुका है। अमिलिया कोल माइन का आवंटन कोल माइन्‍स  (विशिष्‍ट प्रावधान) नियम, 2014 के नियम 11(10) अंतर्गत सार्वजनिक हित के लिए खुर्जा सुपर थर्मल पावर प्रोजेक्‍ट के संचालन के लिए टीएचडीसी को किया गया है।

 

अमिलिया कोल माइन मध्‍य प्रदेश के सीधी जिले के सिंगरौली तहसील के पिदरवाह गांव में है। इस कोल माइन का क्षेत्रफल लगभग 1619.10 हेक्‍टेयर  लीज भूमि पर फैला है। इसके पास ही लीज भूमि के अतिरिक्‍त 240.70 हेक्‍टेयर भूमि क्षेत्र भी है। इस कोल ब्‍लॉक में कुल भूगर्भित कोल रिजर्व (Geological Coal Reserve) 393.59 मिलियन टन है। कोयला उत्‍पादन क्षमता की दृष्‍टि से अमिलिया कोल माइन की रेटेड वार्षिक कोयला उत्‍पादन क्षमता 8.4 मिलियन टन है।

 

खुर्जा एस.टी.पी.पी. उत्‍तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले के खुर्जा में टीएचडीसी द्वारा कार्यान्‍वित की जा रही है। परियोजना के प्रथम चरण में खुर्जा सुपर थर्मल पावर प्रोजेक्‍ट से 1320 मेगावाट (2X660 मेगावाट) बिजली का उत्‍पादन होगा।  

 

कोयला माइन आंवटित होने के पूर्व ही खुर्जा सुपर थर्मल पावर प्रोजेक्‍ट के लिए अन्‍य  सभी आवश्‍यक मंजूरी प्राप्‍त की जा चुकी है। यथा- परियोजना के लिए भूमि आंवटन, पानी की सुनिश्‍चित  आपूर्ति, एयरपोर्ट आथॉरिटी से क्‍लीयरेंस, नेशनल हाइवे-91 से रि-रूटिंग, रेलवे साइडिंग इत्‍यादि सुविधाओं की मंजूरी प्राप्‍त हो चुकी है। इस परियोजना से क्षेत्रीय  लोगों को रोजगार व विकास के  साथ उत्‍तर प्रदेश में ऊर्जा की कमी को पूरा करने में मदद मिलेगी।

 

टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड भारत सरकार व उत्‍तर प्रदेश सरकार का संयुक्‍त उपक्रम है। कॉरपोरेशन वर्तमान में 1450 मेगावाट संस्‍थापित बिजली का उत्‍पादन कर रही है। इसमें 1400 मेगावाट जल विद्युत तथा 50 मेगावाट पवन ऊर्जा से है। कॉरपोरेशन थर्मल व सौर ऊर्जा के क्रियान्‍वयन के क्षेत्र में भी प्रयासरत है। 

 
             
Site Designed & Developed by IT Department, THDC, Rishikesh.